10 lines on Raja Ram Mohan Roy in English and Hindi

I will tell you about Raja Ram Mohan Roy in English and Hindi like 10 lines on Raja Ram Mohan Roy in English, 10 lines on Raja Ram Mohan Roy in Hindi, few lines on Raja Ram Mohan Roy, who is Raja Ram Mohan Roy, raja ram mohan roy parents name, Raja Ram Mohan Roy Death Cause, few lines on Raja Ram Mohan Roy, Raja Ram Mohan Roy few lines.

Few lines on Raja Ram Mohan Roy in english
Raja Ram Mohan Roy



10 lines on Raja Ram Mohan Roy in English

  1. Raja Ram Mohan Roy was born on 22 May 1772 to a Brahmin in Radhanagar village in Murshidabad district of Bengal.
  2.  Raja Ram Mohan Roy died of meningitis at Stapleton near Bristol on 27 September 1833.
  3.  Raja Ram Mohan Roy's father's name is Ramkanto Roy and mother's name is Tarini Devi.
  4.  Raja Ram Mohan Roy was one of the founders of the Brahma Sabha, the forerunner of the Brahmo Samaj, a socio-religious reform movement in the Indian subcontinent.
  5.  Raja Ram Mohan Roy was conferred the title of King by the Mughal Emperor Akbar II.
  6.  Raja Ram Mohan Roy had knowledge of many languages ​​such as Arabic, Persian, English and Hebrew languages.
  7.  The influence of Raja Ram Mohan Roy was evident in the fields of public administration, politics, education and religion.
  8.  Raja Ram Mohan Roy is known to abolish the practices of sati and child marriage.
  9.  Raja Ram Mohan Roy is considered by many historians to be the "Father of the Bengal Renaissance"
  10.  Raja Ram Mohan Roy started protesting against idolatry by writing a book in Bengal at the age of just 15.
  11.  Raja Ram Mohan Roy, after getting his education in English, read subjects like Maths, Physics, Botany and Philosophy, as well as the Vedas and Upanishads, which were mandatory for life.

10 lines on Raja Ram Mohan Roy in Hindi

  1. राजा राम मोहन रॉय का जन्म 22 मई 1772 में बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले में राधानगर गांव में एक ब्राह्मण के घर हुआ था।
  2.  राजा राम मोहन रॉय की मृत्यू 27 सितंबर 1833 में ब्रिस्‍टल के पास स्‍टाप्‍लेटोन में मेनिंजाइटिस के कारण हुई थी।
  3.  राजा राम मोहन रॉय के पिता का नाम रामकंतो रॉय और माता का नाम तैरिनी था।
  4.  राजा राम मोहन रॉय ब्रह्म सभा के संस्थापकों में से एक थे, जो भारतीय उपमहाद्वीप में सामाजिक-धार्मिक सुधार आंदोलन, ब्रह्म समाज के अग्रदूत थे।
  5.  राजा राम मोहन रॉय को मुगल सम्राट अकबर द्वितीय ने राजा की उपाधि दी थी।
  6.  राजा राम मोहन रॉय को अनेक भाषा जैसे कि अरबी, फारसी, अंग्रेजी और हिब्रू भाषाओं का ज्ञान था।
  7.  राजा राम मोहन रॉय का प्रभाव लोक प्रशासन, राजनीति, शिक्षा और धर्म के क्षेत्र में स्पष्ट था।
  8.  राजा राम मोहन रॉय को सती और बाल विवाह की प्रथाओं को खत्म करने के लिए जाना जाता है।
  9.  राजा राम मोहन राय को कई इतिहासकारों द्वारा "बंगाल पुनर्जागरण का पिता" माना जाता है
  10.  महज 15 साल की उम्र में राजा राम मोहन राय ने बंगाल में पुस्‍तक लिखकर मूर्तिपूता का विरोध शुरू किया था।
  11.  राजा राम मोहन राय ने अंग्रेजी की शिक्षा प्राप्त कर मैथ्‍स, फिजिक्‍स, बॉटनी और फिलॉसफी जैसे विषयों को पढ़ने के साथ साथ वेदों और उपनिषदों को भी जीवन के लिए अनिवार्य बताया था।